संस्कृति और विरासत

जामताड़ा की ज्यादातर संस्कृति पश्चिम बंगाल से प्रभावित होती है जो झारखंड के इस हिस्से के बहुत करीब है। जामताड़ा में रहने वाले अधिकांश लोग हिंदू हैं | इस क्षेत्र में हिन्दी के अलावा बंगाली और संथाली भी बोली जाती हैं। गणेश चतुर्थी, सरस्वती पूजा और नवरात्रि जैसे बहुत ही अन्य त्यौहार जामताड़ा में शानदार रूप से मनाए जाते हैं। नवरात्रि के दौरान, लोग स्थानीय मंदिरों में देवी दुर्गा की पूजा करते हैं और माता से प्रार्थना करते हैं, साथ ही गोल सर्कल में डांडिया भी खेलते हैं। जामताड़ा के लोग आम तौर पर चावल और दाल के साथ रोटी का सेवन करते हैं। स्थानीय लोगों द्वारा तैयार किए गए कुछ पसंदीदा व्यंजन धुस्का, दुधौर, झालमुड़ी, केरा-दुधौरी हैं।